MP PSC Pre 2017 : An Analysis

रविवार दिनांक 12/02/17 को राज्य सेवा की प्रारम्भिक परीक्षा सम्पन्न हुई,
विगत वर्षो की अपेक्षा इस वर्ष भी आयोग ने जहाँ केवल सामान्य अध्ययन प्रश्न पत्र 1 के आधार पे चयन प्रणाली अपनाई वही GS-2 का पेपर केवल क्वालीफाइंग था।

सामान्य अध्ययन, प्रथम प्रश्न पत्र से जुडी विशेष् बातें-

1) GS-1 का पेपर कुछ इस तरीके से सेट किया गया था जिसका स्तर निरंतर परिवर्तनशील था जो की

-परीक्षा कक्ष में स्तर- ‘सरल’

-कक्ष के बाहर- ‘Tricky’

-शाम 5 बजे तक – ‘जटिल’

और अंततः रात होते होते -‘जटिलतम” हो गया।

MP PSC 2017 Exam Analysis
MP PSC 2017 Exam Analysis

और इसी के सापेक्ष छात्रों के अंको में भी इसी क्रम में गिरावट दर्ज की गई जो की परीक्षा कक्ष से निकलते समय 85+ से गिरते – गिरते क्रमशः 80, 75 और 70 के न्यूनतम स्तर तक जा पहुंची।

2) एकतरफ जहाँ नए छात्र एकदूसरे को बधाई देते दिखे वहीँ पुराने अनुभवी छात्र संवर्गवार कटऑफ मार्क्स का जोड़ घटाव करते दिखे।

3) कई प्रश्नो को इस प्रकार नियोजित किया गया था की पुराने खिलाडी (Old Rice) भी लप्पू प्रश्नो पे चकमा खा गए।

4) सुबह तक जब स्थिति सामान्य हो गई एवं अभ्यर्थी अपने अंको को ले के कॉन्फिडेंट हो गये तो शाम को जारी मॉडल आंसर शीट ने मानवता को तार तार कर दिया।

5)जैसे जैसे उत्तरो का मिलान होता जा रहा था छात्रो का इंसानियत से विश्वास उठता जा रहा था और अंत में वो घडी भी आ गई जब अपने पास होने की आशा संजोये छात्रों का मनोबल गहरी आशंका में बदल गया।
(इष्ट देवताओं के स्मरण में तेजी दर्ज की गई)

6) दोपहर तक 56 इंच के सीने दम भरने वाले छात्रों को रात होते-होते दम फूलने लगा और सीना, पसीना से लथपथ हो गया! एक- एक कर के गलत होते प्रश्नो ने छात्रों की सिट्टी पिट्टी गुम कर दी!

आगे क्या होगा???
आंसर और मॉडल आंसर की जद्दोजेहद में जूझते छात्रो को अब कहीं आराम नहीं मिलेगा विशेषकर वे छात्र जो एकदम बॉउंड्री पे है वो इसी मायाजाल में फंसे रहेंगे,

कई छात्र गंभीर अनिद्रा का शिकार हो जायेंगे और उनके डरावने सपने ‘वो’ प्रश्न होंगे जो उन्होंने जानते बुझते गलत कर दिए।

..’अरै ये तो पता था,
..पता नहीं क्यों इसपे टिक कर दिया,
..अरे एक बार पहले देख लिया होता..!!
साला.. दिमाग में आया था क्यों नहीं देखा..??

जैसे अनेकोनेक प्रश्न जिनका कोई जवाब नहीं इन्हें खून के आँसू रुलायेंगे और बेचैनी बढ़ती जायेगी!

क्या है उपाय-

कुछ नहीं शांत भाव से ईश्वर भक्ति में ध्यान लगाये, निकटतम तीर्थ स्थल में चक्कर काटना शुरू करे,
मान- मनौती करना शुरू कर दे,
गाय को रोटी, गरीब को कम्बल का दान आदि टोटके भी try किये जा सकते है।

हमारे व्हाट्स एप ग्रुप से साभार

अपने विचारों से आप हमें टिप्पणी/कमेंट के माध्यम से अवश्य अवगत करायें

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*